जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Saturday, September 13, 2008

हिन्दी दिवस पर ही क्यों हिन्दी की हाय-हाय ?


हिन्दी दिवस की समस्त भारतवासियों को बधाई। हिन्दी का विकास ,हिन्दी का प्रभाव और बोलचाल में कम प्रयोग आदि कई मुद्दे हैं जो कि हमें हिन्दी भाषा के बचाव के लिए प्रेरित करते हैं। हिन्दी दिवस पर हिन्दी कि ही बात होगी। हिन्दी विश्व कि उन भाषा में शुमार है जो विश्व में सबसे ज्यादा बोली जाती है। विश्व की बात अभी न करे पहले भारत के संदर्भ में ही हिन्दी को लेकर देखें।
हम यूपी के हैं और हमें हिन्दी में बात करनी चाहिए। जया बच्चन के इस बयान ने पिछले दिनों बवाल खड़ा कर दिया था। पर इससे जया का हिन्दी प्रेम नजर आता है। राष्ट्र भाषा हिन्दी को लेकर ये बातें क्यों? आज भी बहुत से ऐसे लोग है जो कि हिन्दी में बोलना और सुनना पसंद करते हैं।
हिन्दी की जगह पर आज लोग इंग्लिश भाषा का प्रयोग करते है जो कि एक हद तक जरूरी भी है।कयोंकि यह हमारे रोजगार की भाषा बन चुकी है। पर जहां तक यह भी देखा जाता है कि यदि कोई हिन्दी भाषा में बात करता है तो उसे हीन नजर से देखा जाता है, 'मातृभाषा संस्कार के लिए, राष्ट्रभाषा व्यवहार के लिए और विदेशी भाषा व्यापार के लिए बहुत जरूरी है। और हमें हिन्दी में बात करने पर गर्व महसूस होता है।
हिन्दी भाषा के विकास में हम सब का योगदान होना जरूरी है । हमारा प्रयास इसके विस्तार का होना चाहिए। तो ऐसे में हमें आज ही नहीं बल्कि प्रत्येक दिवस को हिन्दी दिवस जैसा मान कर इसके लिए प्रयास करना होगा।

3 comments:

विवेक सिंह said...

आपके इस लेख से सहमत हूँ .

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

सब का योगदान होना जरूरी है सहमत हूँ .

रंजन राजन said...

अंतर्जाल पर हिंदी कई रंग बदलती हुई ऊंचाई पर आयेगी। मेरी शुभकामनाएं। अच्छा लिखा है आपने।
हिंदी दिवस पर मैंने भी एक पोस्ट
http://medianarad.blogspot.com/
पर डाली है। आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा।