जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Wednesday, September 17, 2008

टूटते रिश्ते अब तलाक तक

भारत में वैवाहिक जीवन अन्य देशों की तुलना में बहुत मजबूत है , प्रेम ही पति पत्नी को एक दूसरे से जीवन के अंतिम समय तक का साथ निभाता है, हमारे यहां की परम्पराये विश्व के अन्य देशों की तुलना में बहुत ही मजबूत हैं। पर समय के साथ ही साथ वैवाहिक जीवन में कहीं न कहीं पर कुछ दूरियां आयी है। जिसका परिणाम होता है अलगाव या फिर तलाक। पश्चात्य परम्परा से ही कहीं न कहीं हम भी प्रभावित हुए है।
पति-पत्नी का रिश्ता हमारे यहां सबसे मजबूत रिश्तों में एक है, और इस रिस्ते में आये विखराव से न केवल पति पत्नी ही प्रभावित होते है बल्कि सबसे ज्यादा बुरा प्रभाव बच्चों पर होता है । ऐसा नहीं है कि यदि कोई पुरूष अपनी पत्नी का शोषण कर रहा हो तो वहां पर तलाक लेना गलत होगा पर आम बात जो कि आपस में मिल बैठकर सुलझायी जा सकती है उस पर तलाक तर्क संगत नहीं है।
और क्या तलाक होने के बाद स्त्री खुश रह पाती है , और क्या एक अच्छा जीवन जी पाती है तो शायद बिल्कुल नहीं , वैसे पुरूष प्रधान भारतीय समाज में आज भी स्त्री की दशा अच्ची नहीं है पर फिर भी तलाक इसका इलाज नहीं है। अमेरिका में कुछ ही समय में शादियां टूर जाती है जिसका परिणाम होता है बिना पिता के बच्चे । शायद यहां पर महिलाएं खुद के बर्चस्व को भी प्राथमिकता देती है वैसे यह गलत नहीं पर जरा सा अपने को अलग कर सोचे तो तलाक लेने का विचार कितना सही है यह खुद ही समझ में आयेगा।

2 comments:

रचना said...

kyaa aap yae maantey haen ki taalk ki vajah patini hotee haen ??
aap पश्चात्य परम्परा parmpara ki baat kartey haen
bhaartiyae parmparaa mae pehlae pusuh ek patni ghar mae rakhta tha aur ek bahar aur kaii jagah to dono ek hi ghar mae rehtee thee badii maa aur chhoti maa kelaatee thee
par tab bhartiyae mahila paney pero par kadii nahi thee
ab kadhii haen isliyae wo apne swabhimaan kae saath jeetee haen
shaadi kar kae agar jalaaya jaaye
to talak lena behtar haen
aur wo rishta jo mar chuka ho uski laash dhoney sae behtar hota haen naye raashte talaashna
greh kalah kae shikaar bachcey unsaey kahiee gaye beetey hotey haen jinkae maata pita talak shuda hotey haen
aur is vyvshtha ko badaliyae jahaan
talaak leakar psurush to sukhi hota haen par stri logo ko sukhi nahin lagtee

rakhshanda said...

agar dilon mein jagah na ho to talak le lena hi theek hai, haan, kids par iska bura asar padta hai lekin kya kar sakte hain...vaise chinta kii bat hai..