जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Friday, October 10, 2008

मेरा काव्य - " आहिस्ता- आहिस्ता"


दायरा बढ़ता है प्यार का
दूरियों से
आहिस्ता-आहिस्ता ,
चाहत भी हुई
दिल से
आहिस्ता- आहिस्ता,
यूँ ही बातें बढी
खुद आपसे
आहिस्ता- आहिस्ता ,
महफिलें भी जबां हुई
खामोश ही
आहिस्ता- आहिस्ता ,
कलियां थी बनी फूल
बाग में
आहिस्ता- आहिस्ता ,
होती है खबर
दुनिया को
आहिस्ता - आहिस्ता ।

5 comments:

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुन्दर.
धन्यवाद

mahashakti said...

बढिया, हई को हुई कर दीजिए

धन्यवाद

श्रीकांत पाराशर said...

Aapki post mere yahan khul nahin rahi. aapki rachnaon ka rasaswadan nahin kar pa raha hun. shayad font ki koi problem hai.

seema gupta said...

होती है खबर
दुनिया को
आहिस्ता - आहिस्ता ।
"good expresion"

regards

प्रदीप मानोरिया said...

सुंदर कविता स्पष्ट भाव सार्थक . बधाई स्वीकारें
समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर भी पधारे और
पढ़ें उद्धव ठाकरे के बयां मुंबई मेरे बाप की पर एक रचना