जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Thursday, October 9, 2008

नजर - ए - गजल

जलता है एक दिया रोशनी के लिए
प्यासी हो जमीं जैसे पानी के लिए
आती है जब याद दिल से उनकी
बहता है एक आसूँ आंखो से मेरी,
उनका न मिलना तो दस्तूर होगया
क्या उनका प्यार यूँ ही मजबूर हो गया
चाहत अभी भी दबी है दिल में उनके
एतबार तो है उनपे , अभी इजहार है बाकी ।।

2 comments:

राज भाटिय़ा said...

क्या बत है, अति सुन्दर
धन्यवाद

सतीश सक्सेना said...

बहुत अच्छा लिखा है !