जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Thursday, March 12, 2009

एक कविता ......नीशू को मिला मेले में सभी ब्लागर का साथ - मैं उत्साहित हूँ एक फिर से आपके साथ चलने को ( नीशू )

मैं न हिम्मत हारूँगा

अपना धर्म निभाऊगा

घटिया तुच्छी बातों से,

अब न डर जाऊंगा ,


साहस तो बढ़ गया,

ब्लागर भाईयों का साथ मिल गया,

कोई भी रोक नहीं सकता ,

ले कलम मैं ,

फिर से उतर गया,

समीर जी , राज जी , महेन्द्र जी ,

ने दिया प्यार,


महक , संगीता और सुरभि ने कहा -

करो प्रयास।

डीके सर , नीरज जी और सुनील जी हुए हैरान

इन सब ने दिया एक ही समाधान ,

लिखो भई लिखना ही तुम्हारा धर्म।

पंगे बाज ,लावण्या , अनूप का सवाल,

पढ़ने को न बुलाया ,

तो फिर क्यों करते हो मलाल ,


नीशू करता क्या वो गया थाअकेला ,

अब साथ जो मिला तो आया वापस

ब्लागर मेला ।

इन ब्लागर्स का आभारी-


स्वपन जी , प्रेमलता जी ,सरिता ,सतीश भई, दिनेश द्विवेदी जी ,कविता वाचक्नवी ,अल्पना वर्मा जी आप सब का प्यार और साथ पाकर मैं खुश और उत्साहित हुआ हूँ । (नीशू)

20 comments:

संगीता पुरी said...

आपकी पुनर्वापसी अच्‍छी लगी ... बहुत बहुत शुभकामनाएं।

seema gupta said...

"keep writing"

good luck ya

Regards

बी एस पाबला said...

भई वाह! ये हुई ना बात

cmpershad said...

बढते चलो, लिखते चलो.....बधाई नीशूजी, साहस दिखाने के लिए।

Arvind Mishra said...

Keep it up !

सतीश चंद्र सत्यार्थी said...

ये हुई न बात!

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

नीशू जी
ये हुई न दिल खुश करने वाली बात. अपने विचार और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सभी को है कौन रोक सकता है.
किसी ने कहा है "हिम्मते मरदे खुदा " कभी हौसला नहीं खोना चाहिए .

mamta said...

अच्छा लगा पढ़कर ।
अब बस इसी हिम्मत से लिखते रहिये टिप्पणी की परवाह किए बिना ।

हिमांशु । Himanshu said...

अच्छी बात । लिखते रहें ।

रंजना [रंजू भाटिया] said...

लिखते रहे यूँ ही आप

Udan Tashtari said...

बस, बिना दायें बायें देखे यह उत्साह जारी रखो ..हम हैं न!!

SWAPN said...

badhia hai likhte raho, achchi rachna, bahaduri ke saath, all the best.

अनूप शुक्ल said...

मस्त रहो, ब्लागिंग में व्यस्त रहो!

प्रेमलता पांडे said...

बहुत खूब!

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

आप आपके मन की बातेँ साच्चाई से लिखते रहीये नीशू भाई -

pallavi trivedi said...

himmat kabhi mat haarna....welcome back.

Anil Pusadkar said...

लिखते रहो।ये हुई न शेरो वाली बात्।

अल्पना वर्मा said...

likhtey raheeye

कविता वाचक्नवी said...

Well said.
Keep writing.

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

भई वाह्! ये हुई न कोई बात.......बस इसी तरह लगे रहो.....खूब लिखो और मस्त लिखो.