जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Sunday, March 29, 2009

बंदर जब बन जाये राजा ..........तब ये हंसगुल्ला

आज रविवार होने की वजह से मूड को कुछ हल्का और मजाकिया करने के लिए ये हंसगुल्ला आपके लिए । सप्ताह भर हम लोग किसी न किसी विषयगत चर्चा मे लगें ही रहते हैं - पेशे खिदमत है ........

हंसगुल्ला-


जंगल में राजा के चुनाव के लिए मत होता है । इस बार बंदर जंगल का राजा बनता है । बंदर बहुत खुश हो जाता है यह पद पाकर । एक दिन एक बकरी के मेमने को शेर उठा ले जाता है । बकरी भागी-भागी बंदर के पास आती है । और सारा हाल बताती है ।
बंदर ( जंगल का राजा) कहता है कहां है शेर ? बकरी कहती है - अपनी मांद की तरफ गया है ? बदर और बकरी चल देते हैं मांद की तरफ।
बंदर शेर की मांद के सामने पहुंचते ही तनकर देखता है मांद की ओर फिर पेड़ पर चढ़कर अपनी कलाकारी करने लगता है ......कभी इस डाल तो कभी उस डाल कूदता फंदता है काफी देर तक । बकरी देखती रहती है ।जब कुछ समझ नहीं आता ।
फिर बकरी कहती है - महराज ऐसे में तो शेर मेरे मेमने को खा जायेगा । आप के इस उछल कूद से क्या फायदा ?
बंदर कहता है - सुन बकरी तेरा मेमना बचे या शेर उसको खा जाये मैं जो कर सकता हूँ वो तो कर रहा हूँ ।

11 comments:

हिन्दी साहित्य मंच said...

हा हा हा । बंदर और कर भी क्या सकता है बेचारा । मजेदार

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

बहुत ही बढिया व्यंग्य.....मजेदार. वाकई कुछ ऎसा ही हो रहा है.

दर्पण साह 'दर्शन' said...

Sahi kaha hai kisine:
Bandar ko di haldi,
usne apne muh main mal di....

Chunav aa rahe hain dekho raja sher banta hai bandar,
waise bandar zayada ummedvaar hain abki baar.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

‘‘अन्धेर नगरी चैपट राजा।’’
बन्दर जंगल का राजा होगा तो यही होगा।
शुभकामनाओं के साथ।

Harkirat Haqeer said...

हा हा हा .... बहुत ही बढिया व्यंग्य.....मजेदार...!!

surabhi said...
This comment has been removed by the author.
मा पलायनम ! said...

सही राजनैतिक चित्रण .

surabhi said...
This comment has been removed by the author.
Nirmla Kapila said...

vah neeshooji apne to kamal kar dya bahut badia vyang hai badhai

surabhi said...

सही वक़्त पर सही छोट दी है आप ने
व्यंग बहुत असरदार और मजेदार दोनों ही है

Anil Pusadkar said...

आनंद आ गया।