जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Friday, March 13, 2009

मेरा काव्य- "आया जय हो है गीत" ( राजनीतिक गलियारों से )

आया ' जय हो ' है गीत,

कांग्रेस ने इसे बनाया मीत,

देखो फिर से होगी जीत,

मनमोहन को कुर्सी से है प्रीत,

आया जय हो है गीत,


सोनिया मंद मंद मुस्काये,

लालू धीरे से रेल बढ़ाये,

राहुल नाचे संग नचाये,

जनता का दिल लेते जीत,

आया जय हो है गीत,


पैसा खूब हैं लुटाये,

नेता फोटो खड़े खिचाये,

भीड़ का झूठा मंच दिखाये,

पोस्टर बाजार से बनवाये,

क्या-क्या करते हैं रणनीत ,

आया जय हो है गीत।

1 comment:

Danish said...

Bahut badhiya likha hai sir....
Jai Ho!!!!!!!