जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Sunday, March 16, 2008

जो आज उनसे मुलाकात हुई

जो आज उनसे मुलाकात हुई,
आखों से ही दिल बात हुई।
सब सपने सच हो रहे थे
कुछ पल में,
ऐसा लगा -
जिदगीं की अभी शुरूआत हुई।।
हर पल जिक्र-ए-बयां करता रहा दिल ,
प्यार से प्यार करता रहा दिल.
बिन बातों में कह गये सब,
खुदा जाने -शायद पहली और आखिरी मुलाकात में ..
जो आज उनसे मुलाकात हुई............

4 comments:

KRAZZY said...

hi neeshu,nice poem bhai.lage raho

KRAZZY said...

hi nishu.nice poem bhai.keep it up.

surabhi said...

हर पल जिक्र-ए-बयां करता रहा दिल ,
प्यार से प्यार करता रहा दिल.
nice poem,
yu hi likhte rahana

Mrs. Asha Joglekar said...

Beautiful thought expressed softly. If you can pl. keep the rhythm.