जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Thursday, March 6, 2008

blogger story

Blogger को 1999 के अगस्त में सैन फ्रांसिस्को की एक छोटी सी कंपनी जिसका नाम Pyra Labs था ने आरंभ किया था. यह वह समय था जब डॉट-कॉम अपने चरम पर था. पर हम एक वीसी-निधि प्राप्त, पार्टी देने वालेस लॉबी में खेलने वाले, मुफ्त बीयर पिलाने वाले लोग नहीं थे. (जब तक कि वह दूसरों की मुफ्त बीयर न हो.)

हम तीन मित्र थे, जो बड़ी कंपनियों के लिए अजीब अनुबंध वेब प्रोजेक्ट कर धन इकट्ठा कर रहे थे, इंटरनेट के भूदृष्य पर अपने स्वयं का प्रवेश दर्ज करने का प्रयास करते हुए. हम मूलत: क्या करने की कोशिश कर रहे थे वह अब अधिक मायने नहीं रखता. पर ऐसा करते हुए, हमने Blogger बनाया, कमोबेश एक लहर में, और हमने सोचा हूँ... यह तो बहुत मज़ेदार है.

Blogger एक छोटे रूप में आरंभ हुआ, और अंतत: कुछ वर्षों के बाद बड़े रूप में. हमने कुछ पैसे इकट्ठे किए (पर छोटे बने रहे). और उसके बाद बबूला फूटा, और हमारे पैसे खत्म हो गए, और हमारी छोटी मजेदार यात्रा में मजा और कम हो गया. हम बाल बाल बचे, साबूत भी नहीं थे, पर पूरे समय (अधिकतर दिन) सेवा चलाते रहे और बैक अप बनाते रहे.

स्थिति 2002 में फिर से अच्छी हो गई थी. हमारे लाखों उपयोगकर्ता थे, फिर भी हम कुछ लोग ही थे. और उसके बाद कुछ ऐसा हुआ जिसका किसी को अनुमान नहीं था: Google हमें खरीदना चाहते थे. हाँ, वह Google

हमें Google बहुत पसंद आया. और उन्हे ब्लॉग अच्छे लगे. इसलिए हम इस विचार से सहमत थे. और यह अच्छी तरह हुआ भी.

Now we're a small (but slightly bigger than before) team in Google में हम एक छोटी (पर पहले से थोड़ी सी बड़ी) टीम हैं जो वेब पर अपनी आवाज़ उठाने में लोगों की मदद कर रहे हैं और व्यक्तिगत परिप्रेक्ष्य में दुनिया की जानकारी को व्यवस्थित कर रहे हैं. जो काफी कुछ हमारा हमेशा से लक्ष्य रहा है.

Google पर अधिक जानकारी के लिए, google.com देखें. (खोज के लिए भी अच्छा है.)

1 comment:

sandeep mishra said...

blog ke bare me di jankari badi achi hai.