जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Sunday, March 9, 2008

फौजियों कि बातें

जंग के मैदान में एक देश के सैनिक ने दूसरे देश के सैनिक से कहा," मैं तुम्हें मार डालूँ तो?
'तो में देश के लिए मर मिटने वाला शहीद कहलाऊगा।"
अगर तुम मुझे मौत के घाट उतार दो तो?
' तो तुम देश पर जान लुटाने वाला शहीद कहलाओगे।;
' औे अगर हम दोनों एक दूसरे को मौत के घाट उतार दें तो?'
' तो हम दोनों अपने- अपने देश के पर कुर्बान हो जाने वाले शहीद कहलायेंगे।
'परन्तु अगर हम दोनों मानवता दिखाइएं और एक दूसरे के दोस्त बन जाएं तो?
' तो हम दोनों देशद्रोही कहलाएंगे'।

3 comments:

मीत said...

Boss. Do I need to say a word ??

Udan Tashtari said...

वाह!!! क्या बात कही है...शाबास.

neeraj tripathi said...

Sainikon ka jeevan bahut sangharsh poorna hota hai.. Naman hai un veeron ko jo prahari ban hamari raksha karte hain aane waali museebaton se...