जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Sunday, February 22, 2009

"आज तुम फिर खफा हो मुझसे"""""""जानता हूँ मैं,


आज तुम फिर खफा हो मुझसे,
जानता हूँ मैं,
न मनाऊगा तुमको,
इस बार मैं।
तुम्हारा उदास चेहरा,
जिस पर झूठी हसी लिये,
चुप हो तुम,
घूमकर दूर बैठी,
सर को झुकाये,
बातों को सुनती,
पर अनसुना करती तुम,
ये अदायें पहचानता हूँ मैं,
आज तुम फिर खफा हो मुझसे,
जानता हूँ मैं।
नर्म आखों में जलन क्यों है?
सुर्ख होठों पे शिकन क्यों है?
चेहरे पे तपन क्यों है?
कहती जो एक बार मुझसे,
तुम कुछ भी,
मानता मै,
लेकिन बिन बताये क्यों?
आज तुम फिर खफा हो मुझसे,
जानता हूँ मै।।

9 comments:

भगीरथ said...

अच्छी रोमानी कविता
यहां भी पधारें
http://gyansindhu.blogspot.com

अनिल कान्त : said...

बहुत ही अच्छी रचना है ....आज फिर तुम मुझ से खफा हो

प्रशांत मलिक said...

bahut achhi kavita..

Udan Tashtari said...

क्या बात है..बहुत खूब नीशू.

राज भाटिय़ा said...

वाह बहुत ही सुंदर कविता.
धन्यवाद

bhoothnath(नहीं भाई राजीव थेपडा) said...

हाँ भई हाँ.........अच्छी है...........अब प्रेम है तो अच्छा ही होगा.............और प्रेम कविता..........वो भला क्यूँ ना अच्छी हो........!!

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर रचना है। बधाई।

दिगम्बर नासवा said...

बहुत खूब है रचना
प्यार में मनाना और खफा होना तो आम बात ही
पर अपने सुंदर तरीके से बाँधा है इसे

रंजना [रंजू भाटिया] said...

अच्छा लिखा है आपने