जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Friday, February 13, 2009

.........वो आयेंगे जरूर.........

रात बीती प्यार में उनके,
खामोश जुबान को ,
धड़कते दिल को,
एक आश थी,
पर
वो नहीं आये ,
और
न ही आया कोई
पैगाम उनका ,
वक्त गुजरा है बस ,
उनके इंतजार में ।
कहने की हसरत लिए,
चेखने की चाहत लिए,
देखता उन गलियों को,
बार-बार में,
जिस पर आना था उनको,
पर वो नहीं आये ,
अब बहकने लगी है आरजू,
सब्र का दायरा टूटता है ,
उम्मीद का दामन छूटता है,
विश्वास की डोर कमजोर होती है ,
फिर भी न जाने क्यों?
दिल में एक आश है कि-
वो आयेगें जरूर ।
वादा किया है आने का ,
साथ निभाने का ,
कुछ दूरियां है अभी,
कुछ मजबूरियां है अभी,
उनकी,
ये पल वो साथ
नहीं तो क्या ?
दिल में विश्वास है ऊनका कि-
वो आयेंगे जरूर,
साथ निभायेंगे जरूर ।।

1 comment:

SWAPN said...

mera geet tumhara hriday churakar laayega
yakin hai ek din tumhen bulakar laayega
aaoge tum bin dor khinche deewane se
pyaar ka jaadoo ek din tum par chhayega

sunder rachna.