जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Thursday, February 19, 2009

बिन दुल्हन लौटे दूल्हे राजा ......पूनम जैसी लड़की पर है गर्व

कोई हवा में ले रहा है फेरा ,तो कोई लौट रहा है बिना दुल्हन के। बिहार के पटना की घटना है । शादी के लिए बारात धूम धाम से निकलती है । सभी लोगों तो एकाएक तब झटका लगता है । जब पूनम ने मंडप में शादी से इनकार कर दिया । हुआ कुछ यूँ कि दुल्हा मंडप से किसी कारण उठा और लडखडा गया । पूनम को आभास हुआ कि लड़के ने शराब पी हुई है । तुरंत ही पूनम मंडप से चली गयी और शादी के लिए न बोल दिया । दोनों तरफ से पूनम को लोगों बहुत समझाया और दबाव भी डाला पर पूनम ने किसी की एक भी न सुनी । और पुलिस का सहारा लिया । तब जाकर मामला शांत हुआ । बिन दुल्हन दूल्हे राजा नशे में बैरंग वापस आ गये ।
ये किस्से हंसी - मजाक से लगते हैं । पर यहां पूनम ने जो किया सही किया । ऐसे फैसले कुछ परेशानी जरूर पैदा करते है वर्तमान में । परन्तु भविष्य के लिए अच्छे होते हैं । सहनशीलता या फिर डर के मारे , या समाज में बदनामी को यदि पूनम ध्यान देती तो वह शायद कभी खुश न रह पाती । परिस्थिति से समझौता न करके एक सही कदम उठाया पूनम ने । और एक मिसाल भी दी कि शराब का शबाब कैसे उतरा जाता है । जोर का झटका धीरे से दिया । इसलिए शादी ब्याह में इसका खास ख्याल रखें । अन्यथा जो शराब के दीवाने हैं उनकी थू थू हो सकती है ।

3 comments:

अनिल कान्त : said...

ये भी खूब रही ...ऐसा ही होना चाहिए

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

विनय said...

सही बात कह रहे हैं, यह बात सबको सद याद रखनी चाहिए!

--
गुलाबी कोंपलें
चाँद, बादल और शाम

mehek said...

aisa bhi hota hai.