जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Monday, February 23, 2009

रिश्ते की ताजगी न रही............................तुममें वो सादगी न रही,

रिश्ते की ताजगी,
न रही,
तुममें वो सादगी,
न रही,
कहती हो प्यार,
मुझसे है,
पर
ये बातें सच्ची न लगी,
तुम कहती थी,
तो
मैं सुनता था,
तुम रूठती थी,
तो
मै मनाता था,
तुम चिढ़ती थी,
तो
मैं चिढ़ाता था,
तुम जीतती थी,
तो
मैं हार जाता था,
ये सब अच्छा लगता था,
मुझे
वक्त ने करवट ली,
मैं भी हूँ,
तुम भी हो,
साथ ही साथ हैंं,
पर
वो प्यार न रहा,
वो बातें न रही,
तुम कहती हो कि-
मैं बदल गया,
शायद हां- मैं ही बदल गया।
क्योंकि
तुम्हारा जीतना,
तुम्हारा हसना,
तुम्हारा मुस्कुराना,
अच्छा लगता है अब भी,
चाहे मुझे हारना ही क्यों न पड़े ।।

16 comments:

डॉ .अनुराग said...

sheershak hi shayad panch line hai dost.

हिमांशु । Himanshu said...

सुन्दर रचना. धन्यवाद

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर...

shama said...

Haan...rishe kuchh aisehee ho jate hain...
Ek tees kaa ehsaas dilaate alfaaz...

Rani Mishra said...

bahut hi achha likha hai....
cant have words for praise.
zindagi ka kadwa sach hai ye ki waqt ke sath rishte bhi badal jate hai, ehsaas kahi kho jaate hai.... reh jaati hai to sirf baate....
par aisa kyun hota hai ye samajh nahi paayi hu aaj tak.....

राजीव करूणानिधि said...

अच्छी कविता लगी आपकी. यूँ ही लिखते रहिये. मेरे मेल पर आपका मेल आया था, सो मैंने आपका ब्लॉग क्लिक किया. कभी फुर्सत हो तो मेरे ब्लॉग पर भी आये.

दिगम्बर नासवा said...

सुंदर रचना.........रूठना मनाना, जीतना जिताना,
शब्दों का अच्छा जाल

BHAV SARITA said...

rachna sundar hai .sachmuch men rishte ki tajgee door men hi rahtee hai .bahut kuch kah diya hai apne apni kavita men .achcha prayas hai .kraya mera blog bhee dekhen ,bhavkisarita pa apnee tippadee avashy den .
dhanyavad

रंजना [रंजू भाटिया] said...

सुन्दर लगी आपकी यह रचना

गजेन्द्र बिष्ट said...

सुंदर रचना.........

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

सुन्दर रचना. धन्यवाद

vinodbissa said...

आपकी इस कविता में अहसासों का अच्छा संयोजन है ... शुभकामनाएं.......

bhootnath( भूतनाथ) said...

आपने तो हमें आज कुछ-कुछ याद दिला दिया भाई....आपकी कविता ही ऐसी है....बस ऐसे ही आगे बद्गते रहिये....!!

रूपसिंह चन्देल said...

Sundar Kavita ke liye badhai rachanakar aur aapko bhi use prakashit karane ke liye.

Dr.Chandel

बवाल said...

बेह्तरीन कविता!

BrijmohanShrivastava said...

वक्त बहुत कुछ दिखलाता है /रचना भावुक