जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Sunday, February 22, 2009

जिसका मुझे था इंतजार, जिसके लिये था दिल बेकरार , वो घड़ी आ गयी............आखिर जीत ही लिया आस्कर


जिसका मुझे था इंतजार, जिसके लिये था दिल बेकरार , वो घड़ी आ गयी ये गाना अपने आप ही जुबान पर आ गया । स्लमडाग ने वो कर दिखाया जो अब तक कोई भारतीय फिल्म ने नहीं किया । वैसे लगान , देवदास जैसी फिल्मों ने आस्कर पाने दौड़ में शामिल जरूर रही थी । पर अन्तत मायूसी ही हाथ लगी ।
स्लमडाग ने ६ पुरस्कार जीता है । और रहमान के "जय हो" को सभी ने खूब सराहा है । बेस्ट ओरजीनल कम्पोजिशन के लिए रहमान को आस्कर मिला है। साथ ही एक बड़ी कामयाबी यह भी रही कि "पिंकी "को सर्वश्रेष्ठ डाक्यूमेट्री के लिए चुना गया है । आज भारत की धूम है । हमारे लिए यह दिन खास है । ऐतिहासिक दिन में खूब मजे करें और सुने " जय हो"।

3 comments:

शोभा said...

सच कहा आपने। बहुत-बहुत बधाई।

हिमांशु said...

जय हो,बहुत बधाई.

दिगम्बर नासवा said...

६ नही ८ पुरस्कार जीत चुकी है ये फ़िल्म.........
जय हो............रहमान जी की जय हो