जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Thursday, August 23, 2007

अगर आदमी के पूँछ होती"""""""""""""""""""""""""


अगर आदमी के पूँछ होती"""""""""""""""""""""""""
कल्पना करें की आपके पूँछ हो तो क्या होता? चलिए जनाब हम आप को ले चलते हैं पूँछों की काल्पनिक दुनिया में। जब हम किसी व्यक्ति से मिलते है तब हम हाथ मिलाते हैं पर आप आराम से अपनी पूँछ इधर-उधर हिलाकर सामने वाले की पूँछ से अपनी पूँछ मिलाकर खुशी का इजहार करने के लिए एक दूसरे से पूँछें ऐठ लेते। हम अपनी पूँछ के लिए अलग से स्टाइलिस कपडें खरीदते और पूँछ को अलग-२ तरह से सजाते तथा पूँछों के भी अलग-२ स्टाइल प्रचलित होते। जब आप सिनेना घर में फिल्म देख रहे होते और कोई हास्य सीन आता तो आप ताली के लिए हाथ की जगह पूँछसे थपथपाहट करते। हमारी पूँछ की आवश्कता बहुत बढ जाती कि कोई वस्तु, कोई समान आसानी से उठाया जाता। पूँछों के देखभाल के लिए टेल केयर सेंटर तथा टेल स्पेसलिस्ट होते साथ ही साथ टेल डिजाइनर होते।
कितना अच्छा होता अगर पूँछ होती लोग अपनी जुल्फों को पूँछों से हटाते और पूँछों से अगल-बगल बैठे लोगों को छेंडते और परेशान करते ।
काश ये सच होता।

1 comment:

अनूप शुक्ला said...

ईश्वर आपकी मनोकामना पूरी करे।