जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Thursday, November 1, 2007

बदलते चेहरे

हर चेहरे के पीछे कई चेहरे नजर आते हैं,
ज़रा ये नकाब उठाकर तो देखो।
कितना मुश्किल है सब के लिए अलग सा हो पाना,
पर इन्सान है की फितरत है बदलने की।
आखिर हैरान होता हूँ देखकर मैं इन लोगों को, कोशिश
करता हूँ समझने की इसके अस्तित्व को ।
पर हमेशा ही नाकाम रहा हूँ। आसान नहीं होता,
ये दिखावे भरी दोहरी जिन्दगी जीना ,
पर कुछ है जिन्हें अच्छा लगता है इस तरह बदलना,
मानव की प्रकृति रही है ,हमेशा से शिखर तक पहुचने की ,
मुश्किल रास्ते को आसानी से पाने की तो
, कपट ,द्वेश कर ही मानव पहुच पाता है आज अपनी मंजिल पर
स्वार्थ में सब बदले है ऐसे की मानवता का अस्तित्वखो सा गया है,
मैं सोचता हूँ कि बचा लूँ अपने को ,
कि कही एक दिन खुद ही न शिकार हो जाऊ ।

1 comment:

बाल किशन said...

कोई नही बच पाता है जी. अगर आप बचे है तो करम है उपरवाले का. अच्छी कविता के लिए बधाई.