जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Friday, November 2, 2007

सफर जीवन का


खिलखिलाती नदियाँ , मचलते सागर ,

ऊचाँ आसमान सब कहते हैं जीवन तुम्हारा है,

जिओ इसको भरपूर ।

जीवन के सफर में कभी हार है ,तो कभी जीत,

कभी डरकर न भागो इससे दूर,

समय बदलता है, हालात बदलते हैं,

पर जीवन का मूल नहीं बदलता,

चलते जाना ही जीवन की नियती है,

इसी पर निर्भर सारी परिस्थिती है,

सम्पूर्ण आनन्द यदि लेना है इसका,

तो हालात का सामना करना ही होगा,

जीवन के संग्राम में वही है विजेता,

जिसने इस बात को समझा कि-

जीतने से ज्यादा महत्व रखता है खेल खेलने की भावना,

पूर्ण समर्पण की भावना।




मीनाक्षी प्रकाश

4 comments:

बाल किशन said...

अच्छी बात कही आपने.
जीवन के सफर में कभी हार है ,तो कभी जीत,
कभी डरकर न भागो इससे दूर,
हौसला बुलंद कर देनेवाली एक सुंदर कविता.

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया! सही कहा है-

जीवन के संग्राम में वही है विजेता,

जिसने इस बात को समझा कि-

जीतने से ज्यादा महत्व रखता है खेल खेलने की भावना,

पूर्ण समर्पण की भावना।

मीनाक्षी said...

बहुत सुन्दर आशावादी भाव ! जीवन के सफर मे राही मिल ही जाते हैं.... एक मीनाक्षी ने आज निराशा मे डूब कर एक रचना लिखी और दूसरी मीनाक्षी ने आशा का संचार कर दिया..
शुभकामनाएँ

neeshoo said...

accha likha hai