जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Monday, May 25, 2009

पढ़े हिन्दी , बोलें हिन्दी , और लिखे हिन्दी ..............जीते इनाम ( कविता प्रतियोगिता सूचना )

हिन्दी साहित्य मंच द्वारा एक कविता प्रतियोगिता का आरंभ जून माह से हुआ है । इस प्रतियोगिता के लिए प्रतिभागी अपनी रचना मई माह के अंतिम दिन तक भेज सकते हैं । कविता किसी विषय विशेष पर नहीं है अतः प्रतिभागी अपनी इच्छानुसार विषय चयन कर सकते हैं । इस प्रतियोगिता में छंदबद्ध एवं छंदमुक्त कविता स्वीकार होगी । कविता की आकार लघु एवं विस्तृत हो सकता है । ( शब्द बंधन नहीं है )

अभी तक हिन्दी साहित्य मंच की इस प्रतियोगिता के लिए साहित्य प्रेमियों का उत्साह हमारे लिए प्रेरणाश्रोत है । जिस तरह से लोगों ने हिन्दी साहित्य की ओर अपनी रूचि दिखाई है वह काबिले तारीफ है । इस मंच द्वारा कविता प्रतियोगिता के विजेताओं की घोषणा जून माह के प्रथम सप्ताह में की जायेगी । कविता " यूनिकोड या क्रूर्तिदेव " फांट में ही भेजें । ३१ मई के बाद की प्रविष्टियां स्वीकार नहीं होगी ।

पढ़े हिन्दी , बोलें हिन्दी , और लिखे हिन्दी ..............। हिन्दी भाषा और हिन्दी साहित्य के विकास हेतु " हिन्दी साहित्य मंच " का एक प्रयास जिसमें आपकी भागीदारी जरूरी है ।अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें ।

संचालक ( हिन्दी साहित्य मंच )

2 comments:

रावेंद्रकुमार रवि said...

मैं इस प्रतियोगिता में
भाग लेने का मन
बना रहा था,
पर जब मैंने इस पोस्ट के
शीर्षक में ही चार अशुद्धियाँ देखीं,
तो विचार बदल दिया!
---------------------
और क्या लिखूँ?
समझदार के लिए
इशारा ही काफी होता है!

ashish mishra said...

bewkoof log aksar kamiyo ke puche bhagte hai. ..iaara kaafi hai...