जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Sunday, October 7, 2007

उल्टा पुल्टा

१-
मालिक; (ड्राइवरसे) अरे भई; गाड़ी जरा धीरे चलाओ। इतनी तेज रफ्तार देखकर डर लग रहा है।
ड्राइवर ; डर तो मुझे भी लग रहा है । पर क्या करूँ गाडी के ब्रेक फेल हो गये हैं।
२-
मीनाः डाक्टर साहब। मुझे घुडसवारी का शौक है, इस कारण मेरे पति मुझे पागल समझते है। क्या घुडसवारी पागलपन है?
डाक्टरः बिलकुल नहीं। ऐसा कहने वाला स्वयं पागल होगा।
मीनाः सच , डाक्टर साहब। चलिए, अब आप घोडा बनिये।
३-
एक कंजूसः(मेहमान से)कहिए जनाब क्या लेगें, ठण्डा या गरम?
मेहमानः (नौकर से) राजू। पहले ठंडा पानी ले आओ फिर गरम पानी ले आना।
४-
साधूः बेटा, बाबा को कुछ दक्षिणा दो। प्रभु की लीला देखना, तुम पे उनकी अपार कृपा होगी।
रमेशः माफ करें बाबा। एक लीला(पत्नी) से तो पहले ही परेशान हूँ।
५-
शिक्षकः (छात्रों से) बच्चों, बर्फ का प्रयोग करते हुए वाक्य बनाओ।
छात्रः- पानी बहुत ठंडा है।
शिक्षकः इस वाक्य में बर्फ शब्द कहां पर है?
छात्रः सर । वह तो पिघल गयी है , तो देखेगी कैसे?
६-
पायलट की ट्रेनिंग के लिए इंटरव्यू के दौरान अधिकारी ने रोहित से पूछाः-
" अगर तुम्हारा विमान आकाश में उड़ने के दौरान अचानक रूक जाए तो तुम क्या करोगे?"
रोहितः करना क्या है सर, सभी यात्रियों को उतार कर धक्के लगवा दूगां।
७-
मां ने अपने बेटे से पूछा, तुमने पापा को बताया, कि तुम्हें भाषण -कला में पहला ईनाम मिला है।
" हां मम्मी। बताया"
" तो वो क्या बोले?"
" कहने लगे कि तुम में अपनी मां के गुण पैदा होते जारहे हैं"
८-
एक पहलवान ने वकील से पूछा , " आप मेरा केस लड़ सकते है?"
,"केस तो लड़ सकता हूँ, लेकिन फीस के लिए तुमसे कौन लडेगा?"

2 comments:

Shrish said...

हा हा मजेदार!

संजय बेंगाणी said...

हा हा हा बहुत खुब