जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Thursday, September 3, 2009

।बीते लम्हें हमे याद आते हैं।।

बीते हुए पल की याद हमें सताती है ,

क्योंकि कुछ अच्छे तो कुछ बुरे

वक्त के आगोश में लिये मुस्कराती है ।

बीते हुए पल लौट के नहीं आते ,

बिताये हुए पल कभी भुलाये नहीं जाते ,

ये पल ये लम्हें हैं साथी मेरे,

क्योंकि ये वे पल हैं जो कभी भुलाये नहीं जाते ।।

गुजरे हुए पल याद आते हैं हमें ,

कुछ लम्हों से आंखों में आंसू आ जाते हैं मेरे ,

बीता हुआ पल भी बीत के मेरे साथ है ,

इस सूनी जिंदगी में तो वही आस है ।।

कौन कहता है कि दूर है हमसे वो पल ,

हम अब भी उस पल के सहारे जिया करते हैं ,

क्या हुआ जो चला गया वो पल ,

हम अब भी उस पल की यादें सजोया करते हैं ।।

बीते हुए पल की यादें हमें सताती हैं ।।



प्रस्तुति - मिथिलेश

6 comments:

Nirmla Kapila said...

अच्छी रचना है मिथिलेश जी को बहुत बहुत बधाई

अनिल कान्त : said...

beete pal yaad to aate hi hain...sahi likha

रंजना said...

Sundar bhaavpoorn abhivyakti...

ओम आर्य said...

बहुत ही सुन्दर है बीते यादे..........

आलोक सिंह said...

बीते हुए पल लौट के नहीं आते ,
बिताये हुए पल कभी भुलाये नहीं जाते ,
बहुत सुन्दर रचना

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर, ओर ्मीठे लगते है यह बीते पल