जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Monday, August 31, 2009

" अगर तू कह दे"

मैं परछाई बन के रहूँ अगर तू कह दे


ना करु मै याद तुझे अगर तू कह दे


भेजू वफा का पैगाम सरेआम अगर तू कह दे


युं ही जमाने से गुजर जाउं अगर तू कह दे



मै ना तुझसे मिलूं अगर तू कह दे


मै तेरे ख्वाबो से मिल आउं अगर तू कह दे

खुले आम कर दू इजहार अगर तू कह दे


अजनबी बन के गुजर जाउं अगर तू कह दे


जी लुं जिन्दगी मै अपनी अगर तू कह दे



तेरी नंजरो के सामने दे जान अगर तू कह दे


गमे जुदाई सह जाउं अगर तू कह दे


ना निकलेगी आहं अगर तू कह दे।




प्रस्तुति - मिथिलेश दुबे यहां पढ़े इस नवोदित ब्लागर को और अपने विचार के माध्यम से प्रोत्साहित जरूर करें ।

4 comments:

AlbelaKhatri.com said...

उम्दा...........
बहुत ख़ूब !
बधाई !

mehek said...

sunder abhivyakti.

Udan Tashtari said...

गमे जुदाई सह जाउं अगर तू कह दे
ना निकलेगी आहं अगर तू कह दे।

-क्या बात है, बहुत खूब!

राज भाटिय़ा said...

बहुत प्यारी लगी आप की यह रचना