जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Thursday, June 10, 2010

इ भोलोगिंग का होई ...........अपनी तो जैसे तैसे ...थोड़ी ऐसे या वैसे आपका क्या होगा ? neeshoo tiwari

अपनी तो जैसे तैसे ...थोड़ी ऐसे या वैसे आपका क्या होगा ? क्या होगा ये तो सब को पता है......बोलो बोलो .......बोलो न ...प्प्लीज़ ......हाँ पता है.......पर आदत से तो मजबूर हैं न .........अब जब तक पोस्ट सबसे ऊपर न देखिगे तब तक यस्यम्यास फ़ोन करके दुकान चलनी होती वहहै बबुआ .........अच्छा सच कहा आपने ........तो और का .........का कौनो नवा नवा थोड़े ही आये हैं भोलोगर बनने...........अच्छा ........
अच्छा ई बताइए बबुआ की कुछ लौंडे इ इलाहाबाद में का करिय का बात पेल रहे हैं ..............अरे बुडबक .......कर दी ना बात कई बतकही ..........कुछ सुना न जाना बस भक से मुह खोल दिया ................ए ऊ लौड़े तो कुछ बना रहे हैं ........अच्छा खाने के लिए का ............नहीं तुम तो हमेसा खाएँ पर लगा राहत हो .......अच्छा फिर का बनावट है ..बतावा ना .................अच्छा एक सरत है बबुआ ...हामरे पोस्ट पर चटका और कमेन्ट दिये को होई ...समझा की नहीं ...अच्छा ठीक हैं .......इ ला चार पांच एक साथे ठेल देब .........अब तो बका न ...........तौ सुना ..........१५ का इस लौड़े मिलकर हुमरे तोहरे खिलाफ संगठन बनावट हैं........अब तौ दुकान लगत बा बंद होई जाये ........अच्छा तौ फिर का करी ..कहा न ............बाद दम दबा के निकल लो ...........समझे की नहि...........इ भोलोगिंग का होई ........... 
mahasakti + junior bloger assosiation
अब जो लोग भी "जूनियर ब्लॉगर एसोसिएशन तथा उससे जुडे किसी भी व्‍यक्ति का नाम करते हुये अभद्र पोस्‍ट लिखेगा तो अपनी भद्द करवाने का खुद जिम्‍मेदार होगा", जूनियर ब्लॉगर एसोसिएशन का प्रत्‍येक सदस्‍य अपना विरोध ऐसे वाहियात पोस्‍टो पर साम-दाम-दण्‍ड-भेद के साथ दर्ज करने के लिये स्‍वतंत्र है।

8 comments:

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Jandunia said...

इस पोस्ट के लिेए साधुवाद

Anonymous said...

तुमको मालूम है, तुम बेकार की बकर बकर करके ना ब्लागिंग का माहौल खराब कर रहे हो, शर्म है तो डूब मरो चुल्लू भर पानी में

डा० अमर कुमार said...

?
साम-दाम-दण्‍ड-भेद ...साम-दाम-दण्‍ड-भेद ...साम-दाम-दण्‍ड-भेद .. जी अच्छी तरह याद हो गया, साम-दाम-दँड-भेद !
विरोध साम-दाम-दँड-भेद के साथ दर्ज़ किया जायेगा ।
क्या यह ब्लॉगिंग का नया मुफ़्त सॉफ़्टवेयर है.. कहाँ मिलेगा ?
इसका डाउनफाल कहाँ से करें ? कृपया लिंक देने की कृपा करें ।
शुभकामनायें !

shashikantsuman said...

I agree that the abusive language must not be used. But why bother about it , at least u r getting some comments .....
I welcome all types of comments on my blog no moderation, instant reply. so I appeal to all Gundas and Laphangas to come to my blog and write stronger abusive comments without any fear,...... Hahahaha hohohoho...

रचना said...

bhasha par sayam rakehy aur aagey badhey

नीशू अपना बाप said...
This comment has been removed by a blog administrator.
निर्मला कपिला said...

ांरे बच्चो ये सब क्या है???????????????????????????????????????? ।