जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Monday, June 7, 2010

मेरठ आये दिल्ली के ब्लोगर .........जूनियर ब्लोगर एसोसियेशन में संचालक की दावेदारी अविनाश जी की ...( neeshoo tiwari )..१५ जून इलाहाबाद आइयेगा जरूर






सप्ताहभर से अधिक समय तक चला विवाद (वैचारिक मतभेद ) का पताछेप आखिरकार मेरठ ब्लोगर मिलन से हुआ .....मेरठ पहुंचे अविनाश जी , पवन चन्दन जी , सुमित तोमर जी , उपदेश सक्सेना व भाई मिथिलेश दुबे जी के साथ बैठ चाय की चुस्कियों के बीच ब्लोगिंग के वर्तमान परिदृश्य और भविष्य के स्वरुप पर गहनतापूर्वक विचारविमर्श हुआ .....इस बैठक में कुछ मुद्दों पर आम राय बनी ....
१ ....दिल्ली ब्लोगर सम्मलेन ( लक्ष्मीनगर ) के संचालन  पर सबने (अविनाश जी , पवन जी , मिथिलेश जी , सुमित जी , उपदेश जी ) माना की कई खामिया रह  गयी थी ...किसी सम्मलेन ( बैठक ) का यदि मुद्दा तय रहे तो हम सभी उपस्थित ब्लोगर सार्थकता की ओर जा सकते हैं ..अर्थात विषय का चयन होना आवश्यक हैं ( जैसा की वहां नहीं हो पाया ..आगे जरूर ध्यान दिया जायेगा )...
२ ....दूसरा मुद्दा रहा जूनियर ब्लोगर एसोसियेशन के गठन को लेकर ........जिसमे नियम , कार्यप्रणाली और औचित्य पर बारीकी से हम सभी ने चर्चा की .......जूनियर ब्लोगर एसोसियेशन पर हम सभी एक राय थे की यह संगठन ब्लोगिंग के स्वर्णिम काल के सपने को अवस्य ही साकार करेगा ...जरुरत बस इस बात की है की हम सार्थकता हो ध्यान में रखकर चलें .........एसोसियेशन की चर्चा के दौरान अविनाश जी ने जूनियर ब्लोगर के संचालक (अध्यछ) के पद के लिए खुद का नाम हमारे सामने रखा ....जो एक सार्थक पहल है...  .जूनियर ब्लोगर एसोसियेशन की पहली बैठक १५ जून को इलाहाबाद में होगी ...जहाँ पर अविनाश जी के नाम पर कार्यकारणी के सदस्य विचार करेंगे ...१५ जून को ही जूनियर ब्लोगर एसोसियेशन की सार्वजनिक रूप से गठन (प्रारूप , सदस्यता , कार्यप्रणाली , जे बी ये टीम ) की औपचारिक घोषणा सभी ब्लोगर ले सामने की जाएगी ..
३......सबसे अहम मुद्दा था विवाद पर बातचीत करना ..जिसके लिए हम सभी मिले थे ....तो हम सभी ने माना की कोई ब्लोगर न बड़ा होता है और न छोटा होता है बल्कि हमारा लेखन ही हमारी पहचान है...हम सभी ने गुटबाजी को दरकिनार करना ही सही पाया ....यदि कोई भी ऐसा करता हैं तो हम सभी मिलकर उसको दरकिनार कर देंगे .........साथ ही उसकी बातों को ज्यादा तरजीह नहीं दी जाएगी ...........कुल मिलाकर ब्लोगिंग के स्वर्णिम सपने के लिए आपस में प्रेम भाव और एक दुसरे के अनुभव और सहायता के बिना नहीं चल सकते ...
चलते चलते ............
कल सबसे मिलने के बाद आज जाकर समय मिला तो आप सबको इस बारे में जानकारी देना उचित समझा ..क्यूंकि बहुत से बातें ब्लोगिंग से जुडी ही रही ....तीन चार घंटे कैसे बीत गए पता नहीं चला ...........इस बीच हसी मजाक का भी दूर चलता रहा ..( जहाँ  अविनाश जी रहें और हंसी न हो )......मेरठ में लोक संघर्ष पत्रिका का लोकार्पण भी हुआ ..जिसमे ब्लोगर के साथ साथ कोई नामी पत्रकार  भी शामिल रहे ...........अरे हाँ कुछ चित्र भी पवन जी के कमरे ने कैद किया है..........आप लोगों के लिए .....आप सभी (ब्लोगर ) इलाहाबाद में १५ जून को आमंत्रित हैं ......जहाँ पर जूनियर ब्लोगर की सार्थक पहल एसोसियेशन के साथ होने जा रही है.....आइयेगा जरूर  ( नम्बरवा अविनाश भैया से लाइ  लेहा  )  

12 comments:

संगीता पुरी said...

मैं भी जूनियर ही हूं .. सीनियर समझने की भूल न करें !!

Udan Tashtari said...

तस्वीरें देखकर आनन्द आया.

Suman said...

nice

संतोष कुमार "प्यासा" said...

[red][b]
chalie saab thik ho gaya,
ba milte hai ialahabad me

Anonymous said...

जूनियर ब्लोगर के संचालक (अध्यछ) के पद के लिए खुद का नाम हमारे सामने रखा .

lagtaa haen rajneeti ki tarah koi aayun seema nahin haen junior ki age limit banaa lo warna apni association sae tum khud hi bahar ho jaogae

muft kaa chay nashataa waah

रंजन said...

एसोसियेशन से/के पहले अध्यक्ष..

बधाई हो..

जय हो..

Suresh Chiplunkar said...

चलो, अन्त भला तो सब भला…
सभी लोग खुश रहें और क्या चाहिये…

इस एपीसोड से यह भी पता चलता है कि चाय-पकौड़े-मठरी में कितनी ताकत होती है… :) :)

अविनाश वाचस्पति said...

जैसा कि सबके समक्ष बात हुई थी, के अनुसार ही पोस्‍ट तैयार करें और इस संबंध में इस पोस्‍ट को पढ़ने के बाद आपके पास एक ई मेल भेजी गई है। कृपया उस पर अवश्‍य ध्‍यान दीजिएगा। आपके फोन नंबर पर नो आंसर आ रहा है।

Anonymous said...

जैसा कि सबके समक्ष बात हुई थी, के अनुसार ही पोस्‍ट तैयार करें


iska kyaa matlab haen ??? samjh nahin aayaa kyaa merut meet kisi ko dabnae kae liyae rakhi gayee thee

अविनाश वाचस्पति said...

@ अनोनिमस


वैसे तो मैं इस प्रकार की टिप्‍पणियों को बिल्‍कुल भी महत्‍व नहीं देता हूं लेकिन क्‍योंकि जब सवाल उठाया है तो गलतफहमी नहीं रहनी चाहिए। किसी को दबाने के लिए नहीं, आपस में पैदा हुई गलतफहमियों को हटाने के लिए जरूर रखी गई थी यह बैठक। सबके समक्ष यह बात हुई थी कि नीशू तिवारी ही इस मेरठ ब्‍लॉगर मिलन पर नुक्‍कड़ पर अपनी पोस्‍ट का मसौदा तैयार करेंगे और उस मसौदे की फाईनल पोस्‍ट सबकी सहमति से तैयार होगी। उसे जारी करने से पहले नीशू तिवारी, मिथिलेश दुबे और जिन ब्‍लॉगों पर ऐसी पोस्‍टें और बेनामी टिप्‍पणियां लगाई गई हैं, उन्‍हें तुरंत प्रभाव से हटा दिया जाएगा। एक बार ब्‍लॉग पर से इस प्रकार की पोस्‍टें हटाने के बाद, आपके जैसे छद्म चरित्र के लोग उल जुलूल न लिख सकें, मॉडरेशन लगाया जाएगा और सार्थक टिप्‍पणियों को ही जारी किया जाएगा, बाकी अनर्गल टिप्‍पणियों को तुरंत डिलीट कर दिया जाएगा। अगर आपको लगता है कि ऐसे विचार से किसी को दबाने की कहीं से भी बात उभरती है तो फिर तो आपको अपनी पहचान छिपा कर ही रखनी चाहिए।

Anonymous said...

अविनाश जी अनाम अगर आप को गली नहीं दे रहा हैं तो आप को भी उसकी बात को इतनी कटुता से नहीं लेना चाहिये । अनाम तो वो भी हैं जो गूगल अकाउंट से पोस्ट करते हैं , गाली देते हैं आप कभी उन पर कोई आपत्ति नहीं दर्ज कराते । मुझे पर आक्रोश निकाल ले कोई बात नहीं लेकिन सोच कर देखे दशा और दिशा कि सेट्टिंग करना ब्लॉग पर ब्लॉग के मकसद को ख़तम कर देगा

अविनाश वाचस्पति said...

@ अनानिमस


प्रिय बंधु, आपकी बात को बिल्‍कुल कटुता से नहीं ले रहा हूं। कटुता तो उनके लिए भी नहीं है मेरे मन में, जो गाली भी देते हैं,उन्‍हें भी सही दिशा में लाने के लिए तत्‍पर रहता हूं। पर क्‍योंकि अनामियों और नामियों में अंतर होना चाहिए और जब आप सच बात कह रहे हैं और आपकी जिज्ञासा जायज है तो आपको सामने भी आ ही जाना चाहिए। अगर बिना सामने आए भी आप उचित सवाल कर रहे हैं तो इसमें कटुता की तो बात है ही नहीं, परन्‍तु जिन अनामियों ने माहौल बिगाड़ रखा है, उनसे बचने की सलाह तो आप भी देंगे । ऐसा मुझे विश्‍वास है। खैर ...

जो गाली देते हैं उनसे आपत्ति दर्ज करने का मेरा अपना तरीका, चुप रहने का है क्‍योंकि उनके सामने अपनी बात रखना तो दीवार पर माथा फोड़ने के समान है। पर आपसे मुझे कोई शिकायत नहीं है। आपको अगली बार कैसे पहचानूंगा, बस यही जानने की जिज्ञासा है। आप चाहें तो मेरी ई मेल पर प्रकट हो सकते हैं, मैं आपको सहर्ष पूरा विवरण दूंगा। मेरा ई मेल avinashvachaspati@gmail.com है और आपका स्‍वागत है।