जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Wednesday, April 2, 2008

चौराहे पर जिंदगी

चौराहे के किनारे बिखरी है जिंदगी,
देखता हूँ तीन-चार बंजारन बढ़ी औरत,
जिनके चेहरे पर,
बिखरी हैं झुर्रियां,
रोड डिवाइडर पर बैठ बिस्कुट खाती ,
और
मैंउनके चेहरे की उभरी लकीरों को पढ़ने की कोशिश करता,
कुछ दूर आगे देखता,
कुछ काली, कुछ सांवली,
जवान होती लड़कियां,
छीटदार घाघरा ,बड़ी कमीज पहने,
अपनी लज्जा अखबार से छुपाये,
अखबार ही बेचती,
देखता बारीक नजरों से,
सड़क से गुजरते उन राहगीरों को ,
जिनकी नजर अखबार पर कम
और उनके कमीज के टूटे बटन के बीच झांकते नाभि पर ज्यादा रहती ।



सूर्य प्रकाश जी की कलम से

8 comments:

रश्मि प्रभा said...

चौराहे का सजीव चित्र आँखों के आगे घूम गया,
बेहतर......

सचिन लुधियानवी said...

चलताऊ बिंबों की रेलमपेल.. नौवें दशक में थोक के भाव लिखी गई कविताओं का एक हिस्सा...

vinodbissa said...

निशु जी आपकी रचना ''चौराहे पर जिंदगी'' .... गिरते सामाजिक मूल्यों को प्रदर्शित करती है और बखूबी करती है .... आज लोगों कि भावनाओं में शुद्धता का आभाव सर्वत्र देखने को मिल रहा है ........... लोगों कि सोच गलत दिशा कि ओर भागती जा रही है .. आपने अपनी कविता के माध्यम से लोगों को चिंतन का मौका दिया उसके लिए आप बधाई के पात्र हैं...... शुभकामनाएं........

surabhi said...

निसू जी
देर से सही निगाह तो गयी
गिरते आदर्शो कि और
ख़तम होती समवेदन शीलता कि ओर
आज के युवा इस आवाज को उठाए
समाज को सलीके से जीना सिखाये
बहुत-बहुत शुक्रिया चोराहे कि जिंदगी
बहुत अच्छी लगी

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' said...

चौराहे पर जिंदगी
"चौराहे पर जिंदगी"मीडिया व्यूह पर पोस्ट neeshoo: की कविता के तेवर सत्य के करीब न हीं सत्य ही है ।
is link pe bhee dekhie=>http://mukulbillore.blogspot.com/2008/04/blog-post_02.html

mahendra mishra said...

बहुत बढ़िया कविता है बधाई लिखते रहिये

रंजू said...

बहुत खूब जी बहुत सुंदर लगी यह

KRAZZY said...

ek caurahe ka isse achha sajeev chitran nahin ho sakta hai.is rachna ko padhkar chaurahe ka chitra ubhar aaya hai..............