जन संदेश

पढ़े हिन्दी, बढ़े हिन्दी, बोले हिन्दी .......राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दें। मीडिया व्यूह पर एक सामूहिक प्रयास हिन्दी उत्थान के लिए। मीडिया व्यूह पर आपका स्वागत है । आपको यहां हिन्दी साहित्य कैसा लगा ? आईये हम साथ मिल हिन्दी को बढ़ाये,,,,,, ? हमें जरूर बतायें- संचालक .. हमारा पता है - neeshooalld@gmail.com

Sunday, February 14, 2010

जीवन बना जन्नत

____ जीवन बना जन्नत ____

वेलेन्टाईन डे पर अपनों से बिछड़ों से संवाद करो
रुठ गये जो साथी उनसे अपनत्व का इजहार करो
ना रखो मन में कोई विकार थाम लो स्नेह मशाल
जला कर ज्योति प्रेम की खुशियों का इजहार करो.


॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰विनोद बिस्सा

3 comments:

योगेश स्वप्न said...

sachcha sandesh.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

सादगी के साथ हम, शृंगार की बातें करें।
प्यार का दिन है सुहाना, प्यार की बातें करें।।

सोचने को उम्र सारी ही पड़ी है सामने,
जीत के माहौल में, क्यों हार की बातें करें।
प्यार का दिन है सुहाना, प्यार की बातें करें।।

vinodbissa said...

BAHUT BAHUT AABHAR .... RUPCHANDR JI AANAND AA GAYA AAPKI RACHANAA PADHAKAR .......